Dosti Shayari In Hindi Text

Dosti Shayari In Hindi Text: In this post i am going to share with you the best dosti shayari hindi, friendship shayari in hindi. You can copy, and share this Hindi Shayari with everyone, and also you share it with your friends too.

Best dosti shayari in hindi

लोग रूप देखते है ,हम दिल देखते है ,

लोग सपने देखते है हम हक़ीकत देखते है,

लोग दुनिया मे दोस्त देखते है,

हम दोस्तो मे दुनिया देखते है.

करो कुछ ऐसा दोस्ती में

की ‘Thanks & Sorry’ words बे-ईमान लगे

निभाओ यारी ऐसे के ‘यार को छोड़ना मुश्किल’

और दुनिया छोड़ना आसान लगे…

इश्क़ और दोस्ती मेरी ज़िन्दगी के दो जहाँ है

इश्क़ मेरा रूह तो दोस्ती मेरा इमां है

इश्क़ पे कर दूँ फ़िदा अपनी ज़िन्दगी

मगर दोस्ती पे तो मेरा इश्क़ भी कुर्बान है

इश्क ओर दोस्ती मेरे दो जहान है,

इश्क मेरी रुह, तो दोस्ती मेरा ईमान है,

इश्क पर तो फिदा करदु अपनी पुरी जिंदगी,

पर दोस्ती पर, मेरा इश्क भी कुर्बान है

दिल मे एक शोर सा हो रहा है.

बिन आप के दिल बोर हो रहा है.

बहुत कम याद करते हो आप हमे.

कही ऐसा तो नही की…

ये दोस्ती का रिस्ता कंज़ोर हो रा है.

मौत एक सच्चाई है उसमे कोई ऐब नहीं

क्या लेके जाओगे यारों कफ़न में कोई जेब नहीं

dosti shayari in hindi

आँखों से बरसात होती हैं

जब आपकी याद साथ होती है,

जब भी busy रहे मेरा cell

तो समझ लेना

आपकी होने वाली भाभी से मेरी बात होती हैं

घर से बाहर कोलेज जाने के लिए वो नकाब मे निकली….

सारी गली उनके पीछे निकली…

इनकार करते थे वो हमारी मोहबत से……….

और हमारी ही तसवीर उनकी किताब से निकली………

कोई खुशियों की चाह में रोया

कोई दुखों की पनाह में रोया..

अजीब सिलसिला हैं ये ज़िंदगी का..

कोई भरोसे के लिए रोया..

कोई भरोसा कर के रोया..

वक्त बदल जाता है जिंदगी के साथ

जिंदगी बदल जाती है वक्त के साथ

वक्त नहीं बदलता दोस्तों के साथ

बस दोस्त बदल जाते हैं वक्त के साथ

उस जैसा मोती पूरे समंद्र में नही है,

वो चीज़ माँग रहा हूँ जो मुक़्दर मे नही है,

किस्मत का लिखा तो मिल जाएगा मेरे ख़ुदा,

वो चीज़ अदा कर जो किस्मत में नही है…

friendship dosti shayari In Hindi

गुलाम बनकर जिओगे तो.

कुत्ता समजकर लात मारेगी तुम्हे ये दुनिया

नवाब बनकर जिओगे तो,

सलाम ठोकेगी ये दुनिया….

“दम” कपड़ो में नहीं,

जिगर में रखो….

बात अगर कपड़ो में होती तो, सफ़ेद कफ़न में,

लिपटा हुआ मुर्दा भी “सुल्तान मिर्ज़ा” होता.

हर रिश्ते में विश्वास रहने दो;

जुबान पर हर वक़्त मिठास रहने दो;

यही तो अंदाज़ है जिंदगी जीने का;

न खुद रहो उदास, न दूसरों को रहने दो..!

इश्क़ और दोस्ती मेरी ज़िन्दगी के दो जहाँ है

इश्क़ मेरा रूह तो दोस्ती मेरा इमां है

इश्क़ पे कर दूँ फ़िदा अपनी ज़िन्दगी

मगर दोस्ती पे तो मेरा इश्क़ भी कुर्बान है

Dosti Shayari In Hindi Text
Dosti Shayari In Hindi Text 

छू ले आसमान ज़मीन की तलाश ना कर,

जी ले ज़िंदगी खुशी की तलाश ना कर,

तकदीर बदल जाएगी खुद ही मेरे दोस्त,

मुस्कुराना सीख ले वजह की तलाश ना कर.

love Dosti shayari

जादू है उसकी हर एक बात मे,

याद बहुत आती है दिन और रात मे,

कल जब देखा था मैने सपना रात मे,

तब भी उसका ही हाथ था मेरे हाथ मे…

जिस हॉस्पिटल के हम डॉक्टर हैं,

हमारी पत्नी वहा की नर्स हैं

क्या अजीब ज़ुल्म सहना पड़ता हैं

अपनी ही बीवी को सिस्टर कहना पड़ता हें

दिल मे एक शोर सा हो रहा है.

बिन आप के दिल बोर हो रहा है.

बहुत कम याद करते हो आप हमे.

कही ऐसा तो नही की…

ये दोस्ती का रिस्ता कंज़ोर हो रा है.

माना के किस्मत पे मेरा कोई ज़ोर नही….

पर ये सच ह के मोहब्बत मेरी कमज़ोर नही,

उस के दिल मे, उसकी यादो मे कोई और है लेकिन,

मेरी हर साँस में उसके सिवा कोई और नही..

Dosti Shayari In Hindi Text
Dosti Shayari In Hindi Text 

है ये सफर लंबा ही सही , मिलते रहे हम , हमेशा ,ऐ बेहना…………..

तेरी भी दुआएं सफर में शामिल रहें, ऐ बेहना , ………….

होगयी बिदा तू ,ऐ बेहना , ……………

फिर भी हर सुख – दुःख में वो साथ रही ,ऐ बेहना , …………..

हर लम्हा। हर पल मिलती रहे खुशियाँ तुझे , ऐ बेहना , ………………

दुआएं मेरी भी ये ही रही तुझे , ऐ बेहना , …………….

है ये सफर लंबा ही सही , मिलते रहे हम , हमेशा ,ऐ बेहना………………

देता रहूँ तुझे हमेसा , जो तू चाहे ,ऐ बेहना , ………………..

बांधा है तूने हर दुआओं का बंधन इस राखी में , ऐ बेहना , ……………

अर्ज है इतनी सी उस खुदा से , ऐ बेहना………….

है ये सफर लंबा ही सही , मिलते रहे हम , हमेशा ,ऐ बेहना………….

रहूँ दूर तुझसे भले ही सही , असर है दुआओं में तेरी , ऐ बेहना……………

है ये सफर लंबा ही सही , मिलते रहे हम , हमेशा ,ऐ बेहना………………..

sad dosti Shayari

मोहब्बत का नतीजा,

दुनिया में हमने बुरा देखा,

जिन्हे दावा था वफ़ा का,

उन्हें भी हमने बेवफा देखा.

तुम आये तो लगा हर खुशी आ गई

यू लगा जैसे ज़िन्दगी आ गई

था जिस घड़ी का मुझे कब से इंतज़ार

अचानक वो मेरे करीब आ गई …………

शिव की ज्योति से प्रकाश बढ़ता है,

जो भी जाता है भोले के द्वार,

कुछ ना कुछ उससे ज़रूर मिलता है!

सारा जहाँ है जिसकी शरण मैं

नमन है उस शिव के चरण में

बने उस शिव के चरणो की धूल

आओ मिलकर चढ़ाये हम श्रद्धा के फूल

Dosti Shayari In Hindi Text
Dosti Shayari In Hindi Text 

ज़िन्दगी हसीन है , ज़िन्दगी से प्यार करो …..

हो रात तो सुबह का इंतज़ार करो …..

वो पल भी आएगा, जिस पल का इंतज़ार हैं आपको….

बस रब पर भरोसा और वक़्त पे ऐतबार करो ….

dosti Shayari 2 line

फूल सबनम में डूब जाते है,

झख्म मरहम में डूब जाते है |

जब आते है खत तेरे, हम तेरे गम में डूब जाते है.|

मोहबत को जो निभाते हैं उनको मेरा सलाम है,

और जो बीच रास्ते में छोड़ जाते हैं उनको, हुमारा ये पेघाम हैं,

“वादा-ए-वफ़ा करो तो फिर खुद को फ़ना करो,

वरना खुदा के लिए किसी की ज़िंदगी ना तबाह करो”

छू ले आसमान ज़मीन की तलाश ना कर,

जी ले ज़िंदगी खुशी की तलाश ना कर,

तकदीर बदल जाएगी खुद ही मेरे दोस्त,

मुस्कुराना सीख ले वजह की तलाश ना कर

FAIL हुआ छात्र क्यों फेक दिया जाता हे |

पर FAIL हुआ उम्मीदवार मंत्री बन जाता हे

इसीलिए मेरा देश सालो से FAIL हो रहा हे

कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

कलम के पुजारी अगर सो गये तो…

ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

पागल हे वो लोग जो अपने लवर को मिस किया करते हे

अरे!! मिस करना हे तो मच्छर को करो

जो अपनी जान पर खेल कर आप को किस किया करते हे|

dosti Shayari hindi

अपनी तक़दीर में तो कुछ ऐसा ही सिलसिला लिखा है,

किसी ने वक़्त गुजारने के लिए अपना बनाया,

तो किसी ने अपना बना कर वक़्त गुज़ार लिया……..

Dosti Shayari In Hindi Text
Dosti Shayari In Hindi Text 

वक्त नूर को बेनूर कर देता है,

छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,

कौन चाहता है अपने से दूर होना,

लेकिन वक्त सबको मजबूर कर देता है !

अपनी तक़दीर में तो कुछ ऐसा ही सिलसिला लिखा है,

किसी ने वक़्त गुजारने के लिए अपना बनाया,

तो किसी ने अपना बना कर वक़्त गुज़ार लिया……..

कोन किसका रकीब (enemy) होता है,

कोन किसका हबीब (friend) होता है

बन जाते रिश्ते -नाते जहा

जिसका नसीब होता है|

“अचरा विकास चौधरी ”

छू ले आसमान ज़मीन की तलाश ना कर,

जी ले ज़िंदगी खुशी की तलाश ना कर,

तकदीर बदल जाएगी खुद ही मेरे दोस्त,

मुस्कुराना सीख ले वजह की तलाश ना कर.

वो रात दर्द और सितम की रात होगी,

जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी,

उठ जाता हु मैं ये सोचकर नींद से अक्सर,

के एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी…..

dosti Shayari attitude

तू चाँद मे सितारा होता

आसमान के एक आशियाना में

एक आशियाना हमारा होता

लोग तुम्हे दूर से देखते

नज़दीक से देखने का हक़ बस हमारा होता|

कोन जाने कब मौत का पैगाम आ जाए,

ज़िंदगी की आखरी शाम आ जाए,

हमे तो इंतजार है उस शाम का

जब हमारी ज़िंदगी किसी के काम आ जाए..

भगवान का दिया कभी अल्प नहीं होता,

जो टूट जाये वो संकल्प नहीं होता,

हार को जीत से दूर ही रखना,

क्योकि जीत का कोई विकल्प नहीं होता |…

अकाल मृत्यु वो मरे जो कार्य करे चांडाल का,

कल भी उसका क्या करे जो भक्त हो महाकाल का

दिल पे क्या गुज़री वो अनजान क्या जाने;

प्यार किसे कहते है वो नादान क्या जाने;

हवा के साथ उड़ गया घर इस परिंदे का;

कैसे बना था घोसला वो तूफान क्या जाने……………

zindagi aur dosti shayari in hindi

जिंदगी हे सफर का सील सिला,

कोइ मिल गया कोइ बिछड़ गया,

जिन्हे माँगा था दिन रत दुआ ओमे,

वो बिना मांगे किसी और को मिल गया.

मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती

मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती

सब जानते है मैं नशा नही करता,

मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती!………………

मंज़िलो से अपनी डर ना जाना,

रास्ते की परेशानियों से टूट ना जाना,

जब भी ज़रूरत हो ज़िंदगी मे किसी अपने की,

हम आपके अपने है ये भूल ना जाना.

ज़िंदगी में अगर तुम अकेले हो तो प्यार करना सिख़लो,

और प्यार कर लिया हैं तो इज़हार करने भी सिख़लो.

अगर इज़हार करना नही सीखा तो,

ज़िंदगी भर प्यार के यादों में रोना सिख़लो….

ना सोचा था जिनके लिए हम मर मिटे,

एक दिन वही हमसे दूर हो जाएँगे,

जीने की तमन्ना तो हम भी रखते थे,

अब तेरे बिना कैसे जी पाएगे…

कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे

हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे

वो तरस जायेंगे प्यार की एक बून्द के लिए

हम तो बादल है प्यार के…किसी और पर बरस जायेंगे|

मजनू को लैला का SMS नही आया..

मजनू ने 3 दिन से खाना नहीं खाया..

मजनू मरने वाला था लैला के प्यार में

और लैला बेती थी SMS FREE होने के इंतेज़ार में.

beautiful dosti shayari in Hindi

वो रात दर्द और सितम की रात होगी,

जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी,

उठ जाता हु मैं ये सोचकर नींद से अक्सर,

के एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी…

तू चाँद मे सितारा होता

आसमान के एक आशियाना में

एक आशियाना हमारा होता

लोग तुम्हे दूर से देखते

नज़दीक से देखने का हक़ बस हमारा होता|

कोन जाने कब मौत का पैगाम आ जाए,

ज़िंदगी की आखरी शाम आ जाए,

हमे तो इंतजार है उस शाम का

जब हमारी ज़िंदगी किसी के काम आ जाए..

भगवान का दिया कभी अल्प नहीं होता,

जो टूट जाये वो संकल्प नहीं होता,

हार को जीत से दूर ही रखना,

क्योकि जीत का कोई विकल्प नहीं होता |…

अकाल मृत्यु वो मरे जो कार्य करे चांडाल का,

कल भी उसका क्या करे जो भक्त हो महाकाल का

जय महाकाल

दिल पे क्या गुज़री वो अनजान क्या जाने;

प्यार किसे कहते है वो नादान क्या जाने;

हवा के साथ उड़ गया घर इस परिंदे का;

कैसे बना था घोसला वो तूफान क्या जाने……………

जिंदगी हे सफर का सील सिला,

कोइ मिल गया कोइ बिछड़ गया,

जिन्हे माँगा था दिन रत दुआ ओमे,

वो बिना मांगे किसी और को मिल गया.

मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती

मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती

सब जानते है मैं नशा नही करता,

मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती!

जिंदगी हे सफर का सील सिला,

कोइ मिल गया कोइ बिछड़ गया,

जिन्हे माँगा था दिन रत दुआ ओमे,

वो बिना मांगे किसी और को मिल गया.

मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती

मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती

सब जानते है मैं नशा नही करता,

मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती!………………

मंज़िलो से अपनी डर ना जाना,

रास्ते की परेशानियों से टूट ना जाना,

जब भी ज़रूरत हो ज़िंदगी मे किसी अपने की,

हम आपके अपने है ये भूल ना जाना.

ना सोचा था जिनके लिए हम मर मिटे,

एक दिन वही हमसे दूर हो जाएँगे,

जीने की तमन्ना तो हम भी रखते थे,

अब तेरे बिना कैसे जी पाएगे…

dosti shayari in hindi 2 line

ज़िंदगी में अगर तुम अकेले हो तो प्यार करना सिख़लो,

और प्यार कर लिया हैं तो इज़हार करने भी सिख़लो.

अगर इज़हार करना नही सीखा तो,

ज़िंदगी भर प्यार के यादों में रोना सिख़लो….

कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे

हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे

वो तरस जायेंगे प्यार की एक बून्द के लिए

हम तो बादल है प्यार के…किसी और पर बरस जायेंगे|

मजनू को लैला का SMS नही आया..

मजनू ने 3 दिन से खाना नहीं खाया..

मजनू मरने वाला था लैला के प्यार में

और लैला बेती थी SMS FREE होने के इंतेज़ार में..

सितारो मे आप, हवाओ मे आप,

फ़िज़ाओ मे आप,

बहारो मे आप,

धूप मे आप,

छावो मे आप,

सच ही सुना है की बुरी आत्माओ का कोई ठिकाना नही होता

रात गुमसूँ है मगर चेन खामोश नही,

कैसे कहदू आज फिर होश नही,

ऐसा डूबा तेरी आखो की गहराई मैं,

हाथ में जाम है मगर पीने का होश नही.

शायर तो हम है शायरी बना देंगे

आपको शायरी मे क़ैद कर लेंगे|

कभी सूनाओ हमे अपनी आवाज़

आपकी आवाज़ को हम ग़ज़ल बना देंगे.||

मंज़िलो से अपनी डर ना जाना,

रास्ते की परेशानियों से टूट ना जाना,

जब भी ज़रूरत हो ज़िंदगी मे किसी अपने की,

हम आपके अपने है ये भूल ना जाना.

वफ़ा का दरिया कभी रुकता नही,

इश्क़ में प्रेमी कभी झुकता नही,

खामोश हैं हम किसी के खुशी के लिए,

ना सोचो के हमारा दिल दुःखता नहीं!

ना हम कुछ कह पाते हे, ना वोह कुछ कह पाते हे.

एक दूसरे को देखकर गुजर जाया करते हे.

कब तक चलता रहेंगा ये सिलसिला,

ये सोचकर दिन गुजर जाया करते हे.

दोस्ती ज़िन्दगी का खूबशूरत लम्हा है,

जिसे मिल जाये तन्हाई में भी खुश,

जिसे न मिले भीड़ में भी अकेला.

आप को इस दिल में उतार लेने को जी चाहता है,

खूबसूरत से फूलो में डूब जाने को जी चाहता है,

आपका साथ पाकर हम भूल गए सब मैखाने,

क्योकि उन मैखानो में भी आपका ही चेहरा नज़र आता है….

दोस्ती से कीमती कोई जागीर नही होती;

दोस्ती से खूबसूर्त कोई तस्वीर नही होती;

दोस्ती यूँ तो कचा धागा है मगर;

इस धागे से मजबूत कोई ज़ंजीर नही होती

विश्वास करो उस शक्ति पर,जो इस सृष्टि में रहती है ,

निराकार हो कर भी हर पल ,जो दुनिया थामे रहती है ,

धरती , सूरज, चाँद -सितारे ,अपने पथ पर चलते हैं ,

सदियों से सब चलते रहते ,कभी नहीं ये मिलते हैं,

जिसके एक इशारे पर ही ,ग्रह भी चाल बदलतें हैं ,

विश्वास करो उस शक्ति पर …………………….

बसंत ऋतू या गर्मी -सर्दी ,या हो बारिश का मौसम ,

हर मौसम खुशियां दे कर , कर देता है आँखें नम,

जिसके एक इशारे पर ही , रंग बदलता है मौसम ,

विश्वास करो उस शक्ति पर ………………….

बबिता राही

Dosti shayari in Hindi Download

धोखा मिला जब प्यार में;

ज़िंदगी में उदासी छा गयी;

सोचा था छोड़ दें इस राह को;

कम्बख़त मोहल्ले में दूसरी आ गयी!

पत्ता भी हिलता है तो , उसी के हुकम से …………..

अधिकार है हमारा , खुद ही के कर्म से , …………..

मिलता है फल तेरे ही कर्म की नियत से …………

आदमी जीता अपने – २ विकारों से…………..

घटनाएं घटती है , हुकमें मंजूरे खुदा से …………..

चाँद – तारे भी तू ही उगा रहा है ………….

रोशन है ये जहां हमारा ,…………

होता सब कुछ तेरे ही रहमों कर्म से ………….

है सत्तापति एक ही , जो पूरा ब्रह्माण्ड चलारहा है …………

सिर्फ तेरा ही घर नहीं ,…………

वो तो जीव – जंतु सभी को चला रहा है ……………….

देता है वो जिसे भी सत्ता , ……………

मिलती सत्ता उसे उसी के हुकम से ……………..

रखना याद इतना , है ये सत्ता उसी की ,………….

तू भी जीता है उसी के रजा से…………….

दुरूपयोग होता जब भी सत्ता का , ………….

गिरता फिर वापस तू उसी के हुकम से………………..

संत की तपस्या भंग हो तो वो राजा होजाता है ……………

पर जब भी राजा की तपस्या भंग हो , ………..

पुनः लोटता नरक , अपने ही कर्म से ………….

पत्ता भी हिलता है तो , उसी के हुकम से ………………….

अधिकार है हमारा , खुद ही के कर्म से ,…………

मिलता है फल तेरे ही कर्म की नियत से …………………….

– राजकुमार खन्ना

ज़िंदगी में बार बार सहारा नही मिलता,

बार बार कोई प्यार से प्यारा नही मिलता,

है जो पास उसे संभाल के रखना,

खो कर वो फिर कभी दुबारा नही मिलता…

शादी एक ऐसा मिलन है…

जो अच्छे मित्रों की तरह रहने के इरादे से शुरू किया जाता है

और दिन-ब-दिन ये इरादे बदलते जाते हैं।

खूबसूरत है वो लब……जिन पर,

दूसरों के लिए कोई दुआ आ जाए!!

खूबसूरत है वो दिल जो किसी के,

दुख मे शामिल हो जाए !

कर्म तेरे अच्छे हे तो

किस्मत तेरी दासी है!

नियत तेरी अच्छी है तो

घर तेरा मथुरा कशी है!

बादल हो या बियर का नशा… अचानक से छा ही जाता है…

प्यार हो या चेहरे पे पिंपल…सबकी नज़र मे आ ही जाता है..

दाँत का दर्द हो या गर्ल फ्रेंड की शादी, आँखो मे आँसू आ ही जाते है……

चिकनी चुपड़ी बातों से, फितरत का पता नहीं चलता

अंदर क्या है बाहर क्या है, इसका पता नहीं चलता

जो मीठेपन का लेप चढ़ा कर प्यारी बातें करते हैं,

वो कटुता का कब रंग दिखादें, इसका पता नहीं चलता

वोटों के खातिर निकले हैं ,

कुछ सौदागर लेके बण्डल नोटों के ,………….

बिकती है हर चीज यहाँ ,

खरीदार है यहाँ कुछ नेता वोटों के ,………….

भ्रष्टाचार को भ्रष्टाचार के नाम से ही बेच रहे है ,

काले धन के है ये वेपारी वोटों के। ………….

गरीबी वो क्या मिटायेंगे ? मिटाकर गरीबों को ,

जमीन भी बेच खायी , ये सौदागर हैं वोटों के……………..

वोटों के खातिर निकले हैं ,

कुछ सौदागर लेके बण्डल नोटों के ,………….

ऐसे वक्त गुजर गया SMS करते हुए तेरे प्यार में ,

होश ही नहीं रहा कि मैं बैठा हूँ क्लास में ,

पीछे मुड़ कर देखा तो टीचर खड़ी थी पास में……..

आँखों मे आ जाते है आँसू,

फिर भी लबो पे हसी रखनी पड़ती है,

ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो,

जिस से करते है उसीसे छुपानी पड़ती है…

हज़ारो की किस्मत तेरे हाथ थी

अगर पास कर देता तो क्या बात थी?

God:

गर्लफ्रेंड थोड़ी कम बनता तो क्या बात थी?

किताबे तो सारी तेरे पास थी !!

एक जुर्म हुआ है हम से एक यार बना बैठे हैं

कुछ अपना उसको समझ कर सब राज़ बता बैठे हैं

फिर उसकी प्यार की राह में दिल ओर जान गवा बैठे हैं

वो याद बहुत आते हैं जो हुमको भुला बैठे हैं

मिलते रहे हैं मंत्री ऐसे , देखो तो जरा ये , देश को मंतर रहे हैं कैसे …………..

चुनाव में खड़े हैं संत्री ऐसे , देखों तो ज़रा , जैसे देश का पेरा ये ही दे रहे हो जैसे ………….

कुछ तो हैं ठेकेदार ऐसे , चले हैं लेने ठेका ५ साल का देश का जैसे …………….

दिखा रहे हैं चाँद ऐसे , मांगते हैं लेके कटोरा वोटों की भीखों का जैसे ………………..

दिखा रहे हैं झाड़ू ऐसे , निकले हो करने देश को साफ़ जैसे ……………….

खिला रहे हैं कमल ऐसे , कीचड़ की चाय पिलाने देश को निकले हो जैसे ………………….

दिखा रहे हो पंजा ऐसे , जकड लिया हो दम घोटने को देश को जैसे …………………….

मिलते रहे हैं मंत्री ऐसे , देखो तो जरा ये , देश को मंतर रहे हैं कैसे ……………………

काश मिलजाए इस देश को मंत्री ऐसे , राम ने भी देश कभी चलाया था जैसे ……………

आँखों मे आ जाते है आँसू,

फिर भी लबो पे हसी रखनी पड़ती है,

ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो,

जिस से करते है उसीसे छुपानी पड़ती है…

गमो मे हँसने वालो को भुलाया नही जाता,

पानी को लहरो से हटाया नही जाता,

बनने वाले बन जाते है,

अपने कहकर किसी को अपना बनाया नही जाता ।

रोती हुई आँखो मे इंतेज़ार होता है,

ना चाहते हुए भी प्यार होता है,

क्यू देखते है हम वो सपने,

जिनके टूटने पर भी उनके सच होने

का इंतेज़ार होता है?…..

कितने ही वादे करवालो, नेताओं का क्या जाने वाला

अभी जैसा चाहो उन्हें नचाओ, उनका क्या जाने वाला

कुछ दिन और बचे हैं जितनी चाहो खुशी मनालो

फिर तो रोना ही रोना है ईश्वर भी नहीं बचाने वाला

आज कल हर जगह वोटों के भिखारी निकल पड़े हैं

कुटिल राजनीति के मझे हुए खिलाडी निकल पड़े हैं

गलतियों का दोष औरों पर मढने का जो चलन है

उसे निभाने के लिये बहुत से अनाड़ी निकल पड़े हैं

जनता को वो झूंठे वादे अब फिर से मिलने वाले हैं

हम जनता के सेवक हैं झांसे फिर से मिलने वाले हैं

दुनिया की सारी सुख सुबिधायें अब जनता की हैं

सावधान जनता अब वोटों के भिक्षुक मिलने वाले हैं

बिना पुकारे हमें साथ पाओगे

करो वादा कि दोस्ती आप निभाओगे

हम ये नही कहते कि हमें रोज याद करना

बस याद करना उस वक्त जब अकेले अकेले चॉकलेट खाओगे

रोती हुई आँखो मे इंतेज़ार होता है,

ना चाहते हुए भी प्यार होता है,

क्यू देखते है हम वो सपने,

जिनके टूटने पर भी उनके सच होने

का इंतेज़ार होता है?…..

कितने ही वादे करवालो, नेताओं का क्या जाने वाला

अभी जैसा चाहो उन्हें नचाओ, उनका क्या जाने वाला

कुछ दिन और बचे हैं जितनी चाहो खुशी मनालो

फिर तो रोना ही रोना है ईश्वर भी नहीं बचाने वाला

बिना पुकारे हमें साथ पाओगे

करो वादा कि दोस्ती आप निभाओगे

हम ये नही कहते कि हमें रोज याद करना

बस याद करना उस वक्त जब अकेले अकेले चॉकलेट खाओगे

इश्क़ सभी को जीना सीखा देता है,

वफ़ा के नाम पर मरना सीखा देता है.

इश्क़ नही किया तो करके देखो,

ज़ालिम हर दर्द सहना सीखा देता है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *